ग्राम पंचायतों में निर्माण कार्यों को मानक के अनुरूप व गुणवत्तापूर्ण किया जाए

लखनऊ।
प्रमुख सचिव पंचायतीराज अनीता सिंह ने कहा कि विभागीय योजनाओं का क्रियान्वयन सही ढंग से किया जाये। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। मंडलीय उप निदेशक पंचायत व जिला पंचायतराज अधिकारी ग्राम पंचायतों का भ्रमण अवश्य करें। ग्राम पंचायतों में निर्माण कार्यों को मानक के अनुरूप व गुणवत्तापूर्ण किया जाए।



यह निर्देश प्रमुख सचिव पंचायतीराज ने योजना भवन में विभागीय समीक्षा बैठक के दौरान दिये। उन्होंने कहा कि मासिक रिपोर्ट को सही ढंग से तैयार कराकर समय से उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित करें। वर्ष 2018-19 में अवशेष निर्मित कार्यों को शीघ्र पूर्ण किया जाए तथा 2019-20 हेतु पंचायत भवन निर्माण एवं मरम्मत के लक्ष्य के सापेक्ष स्थल चयन की सूचना शीघ्र उपलब्ध करायी जाये।

प्रमुख सचिव ने समस्त जनपदों की ग्राम पंचायतों में आवश्यकतानुसार प्राथमिकता से सामुदायिक शौचालय के निर्माण हेतु स्थल चयन एवं निर्माण की कार्रवाई 31 मार्च, 2020 तक पूर्ण कराने के निर्देश दिए। एन0ओ0एल0बी0 के अंतर्गत शौचालयों को विलम्बतम 31 मार्च, 2020 तक निर्मित कराते हुए भारत सरकार की वेबसाइट पर जियो टैगिंग किये जाने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होंने सुजल एवं स्वच्छ ग्राम का प्रशिक्षण 31 मार्च, 2020 तक अनिवार्य रूप से पूर्ण कराये जाने हेतु अधिकारियों को निर्देशित किया।

प्रमुख सचिव ने आपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत पंचायत भवनों को सुदृढीकरण, सेवा केन्द्र/लाइब्रेरी, स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं शासकीय विद्यालयों का जीर्णोद्धार का कार्य प्राथमिकता से पूर्ण कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

बैठक में भारत सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, जलशक्ति मंत्रालय के निदेशक, डीडीडब्ल्यूएस युगल जोशी, निदेशक पंचायतीराज, किंजल सिंह, अपर निदेशक पंचायत सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।
btnimage