पूर्व मुख्यमंत्री बोले भाजपा सरकार ने नौजवानों को रोजगार के नाम पर धोखा दिया

लखनऊ।
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव राज्य सरकार के बजट पर प्रेसवार्ता के बाद इस सम्बंध में जनसाधारण की प्रतिक्रिया जानने के लिए लखनऊ शहर में निकलें। जनता के विभिन्न वर्गो के लोगों से संवाद में समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी सरकार के कामों पर तुलनात्मक टिप्पणियां भी की। चक गंजरिया क्षेत्र में समाजवादी सरकार के समय विकास के तमाम कार्य हुए थे। भाजपा सरकार इसको स्वीकार करने में हिचकती है। यह उसकी काम नहीं नाम पर ठप्पा लगाओं राजनीति का अंग है।



अखिलेश यादव से नौजवानों, व्यापारियों और कुछ कर्मचारी महिलओं ने कहा कि आज जो बजट भाजपा सरकार ने पेश किया है वह पूरा का पूरा नाउम्मीदी से भरा है। इसमें जनसामान्य के हित की कोई बात नहीं है। नौजवानों को रोजगार के नाम पर धोखा दिया गया हैं। जब राज्य में न तो निवेश हो रहा है और न उद्योग लग रहें है तो रोजगार की कैसे उम्मीद की जा सकती है। किसानों को भी छलावा मिला है। व्यापारी समाज भी इस बजट से निराश हैं। महिलाओं ने कहा कि केन्द्र के बजट ने घरेलू बजट चौपट किया। अब राज्य के बजट से जीवन चलाना ही दूभर हो जाएगा।

चकगंजरिया क्षेत्र में पुलिस मुख्यालय ‘सिंग्नेचर बिल्डिंग‘ शानदार इमारत है। अखिलेश जी ने यूपी डायल 100 सेवा की शुरूआत की थी जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर की योजना है। इसी क्षेत्र में भव्य विश्वस्तरीय इकाना स्टेडियम है जहां अंतर्राष्ट्रीय स्तर के मैच होते हैं।

अवध शिल्पग्राम भी यहीं है। इस ग्राम की स्थापना का उद्देश्य लोककलाओं का संवर्धन और स्थानीय कलाओं को प्रोत्साहन देना है। शानदार शाम-ए-अवध बाजार दिल्ली के कनाटप्लेस की तरह का निर्माण कराया था जिसे भाजपा सरकार ने औने-पौने दामों पर बेच दिया है इसे देखकर अखिलेश जी को बहुत दुःख हुआ। यहीं संस्कृति विद्यालय और मातृ एवं शिशु अस्पताल भी समाजवादी सरकार में बना है।

अखिलेश यादव के प्रयासों से ही यहां अमूल प्लांट लगा है। इसको लाने के पीछे उद्देश्य था स्थानीय लोगों को रोटी-रोजगार का अवसर देना। इस प्लांट में स्थानीय दूध की खपत होती और दुग्ध उत्पादकों की आय भी बढ़ती। क्षेत्र में सम्पन्नता आती। आज इस प्लांट में स्थानीय तो उपेक्षित हैं गुजरात से लाए हुए कर्मचारी कार्यरत हैं। अखिलेश यादव ने जिस मूल उद्देश्य से यहां योजना की शुरूआत कराई थी वह अधर में है।

चकगंजरिया क्षेत्र में एचसीएल की स्थापना का निर्णय समाजवादी सरकार के समय श्री अखिलेश यादव के मुख्यमंत्रित्वकाल में इन्वेस्टर्स मीट में कम्पनी के मालिक शिवराज नाडर के लखनऊ आगमन पर हुआ था। आज यहां नौजवानों की एक बड़ी टीम कार्यरत है। इस कम्पनी के आने से प्रदेश की औद्योगिक प्रगति का मार्ग प्रशस्त हुआ है। जब श्री अखिलेश जी वहां पहुंचे तो तमाम कर्मचारी वहां एकत्र हो गए। उन्होंने श्री यादव का स्वागत किया। बाहर आकर यादव ने कुल्हड़ में चाय पी। उनके साथ पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र चौधरी भी थे।

उक्त क्षेत्र में ही एक उच्चस्तरीय मेदांता अस्पताल भी है, इसको लखनऊ में लाने का श्रेय भी अखिलेश यादव को जाता है। गुड़गांव में मेदांता अस्पताल डाॅ0 त्रेहन की देख-रेख में चलता है। लखनऊ में डाॅ. त्रेहन ने इस अस्पताल का निर्माण कराया। अखिलेश यादव अपने एक बीमार मंत्रिमण्डलीय सहयोगी शाकिर अली को देखने मेदांता गए।

गोमती नगर में डाॅ. राममनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के पहले जनेश्वर मिश्र पार्क है जो एशिया का सबसे बड़े क्षेत्रफल का पार्क है। इस पार्क को देखने और यहां सैर करने हजारों लोग सुबह-शाम आते हैं। अखिलेश यादव ने अपने मुख्यमंत्रित्वकाल में एक बड़े ऊंचे पोल पर तिरंगा झण्डा फहराया था। आज जब वे उसके पास पहुंचे तो राष्ट्रीयध्वज के सम्मान में कार से उतर कर खड़़े हो गए और उसको निहारते रहे। उनको राष्ट्रीय ध्वज के अभिवादन पर गर्व है।
btnimage