पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा राजनीतिक गठजोड़ में व्यस्त भाजपा देश की आर्थिक दुर्दशा का कारण

लखनऊ (06 अगस्त, 2019)।
पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि राजनीतिक गठजोड़ में व्यस्त भाजपा देश की आर्थिक दुर्दशा का कारण बन गई है। खेती, उद्योग व शेयर बाजार सब हताशा के दौर से गुजर रहे हैं। बेरोजगारी चरम पर है और कारोबार चैपट हो गए हैं। जनता अब खुद को ठगा महसूस कर रही है। प्रधानमंत्री ने प्रगति के सपने दिखाए उनकी असलियत अब सामने आने लगी है। भारत की 5 खरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का उनका दावा किसी के गले उतरने वाला नहीं है।



अभी हाल में विश्व बैंक ने गतवर्ष के आंकड़ों के आधार पर भारतीय अर्थव्यवस्था के वैश्विक मूल्यांकन में भारत को छठवें स्थान पर से एक पायदान नीचे उतार कर सातवें स्थान पर पहुंचा दिया है। देश की औद्योगिक विकास दर में भी गिरावट दर्ज की गई है। पिछली तिमाही की विकास दर में हम चीन से पिछड़ गए हैं। बैंकों में एनपीए में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है। विकास दर के साथ रोजगार के आंकड़े बढ़े नही है और गरीबी हमारे विकास के दावों की बड़ी चुनौती देती नज़र आती है।

समग्र विकास के हालात तब बनते हैं जब कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर हो। पर यहां उत्तर प्रदेश में तो अंधेरराज चैपट राजा के हालात हैं। मुख्यमंत्री लगातार दौरों और बैठकों की निरर्थक कसरत करते रहते है। रोज अफसरों को चेतावनी देते रहते हैं। उन्हें बर्खास्तगी की धमकी देते हैं।लेकिन कहीं कोई बदलाव नज़र नहीं आता है। अपराधिक घटनाओं पर कोई नियंत्रण नहीं है।



चारों तरफ अराजकता है। हत्या, लूट, डकैती, अपहरण और बलात्कार की घटनाएं रोज ही हो रही हैं। महिलाएं एवं बच्चियां तक सुरक्षित नहीं। सर्वोच्च न्यायालय ने उन्नाव की रेप पीड़िता के साथ हुए काण्ड का संज्ञान न लिया होता तो उसके साथ भी न्याय होने की कोई उम्मीद नहीं जागती। उसकी जिंदगी अंधेरे में ही डूबी रहती।

भाजपा की कुनीतियों ने प्रदेश को विकास में काफी पीछे कर दिया है। सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ा जा रहा है। किसान, नौजवान, गरीब, अल्पसंख्यक सहित समाज के सभी वर्गों के लोग परेशान हैं। फर्जी एनकाउण्टर एवं समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं का बड़े पैमाने पर उत्पीड़न हो रहा है।



भाजपा की राज्य सरकार के कार्यकाल का आधा समय बीतने को है लेकिन वह कोई भी ऐसी योजना पेश नहीं कर पाई है जिसे वह अपनी बता सके। अब तक वह सिर्फ समाजवादी सरकार की योजनाओं को ही अपना दावा करती दिखाई देती है। भाजपा सरकार पूरी तरह असफल है। भाजपा ने उत्तर प्रदेश को अंधेरे कुंए में ढकलने जैसा काम किया है। यह लोकतंत्र के साथ छल है।
btnimage