झाँसी नगर निगम का खेल, उसके आगे सब फेल

झाँसी।
एक तरफ जहां समूचे देश में जिलों में नगर निगम और नगर पालिकाएं उत्तर प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप जनता के हितों के लिए कार्य कर रही है, वही कही न कही झाँसी नगर निगम भी अपनी किसी न किसी कार्यप्रणाली को लेकर हमेशा चर्चाओ में बना रहता है चाहे वो स्वच्छ भारत अभियान के तहत घर घर जाकर लोगो को जागरूक करने का मामला हो या फिर नगर निगम की खाली पड़ी जमीनों का मामला हो या फिर अभी पिछले माह हुई नगर निगम में कार्यकरिणी की बैठक हो किसी न किसी रूप में झाँसी नगर निगम अक्सर चर्चाओ में बना रहता है।



अब आपको बताते हैं कि आज नगर निगम जनता के हितों में होने वाली फॉगिंग को लेकर फिर एक बार चर्चाओ में आ गया विगत माह में नगर निगम द्वारा जनता के हितों को देखते हुए झाँसी नगर निगम द्वारा जैम पोर्टल के माध्यम से एक ठेकेदार द्वारा फॉगिंग की 60 मशीनों को वार्डो में फॉगिंग के लिए खरीदा गया था जिसमे से केवल 37 मशीने झाँसी के 60 वार्डो में चली चली और 23 नई फॉगिंग की मशीन रखी रही। जबकि 60 वार्डो के लिए 60 मशीने नगर निगम द्वारा खरीदी गई थी जिससे जनता को असुविधा न हो सके लेकिन नगर निगम ने अपना फायदा देखते हुए केवल 37 मशीनों को ही चलाया वही सूत्रों से जानकारी प्राप्त हुई कि प्रतिदिन 60 मशीनों के लिए पेट्रोल नगर निगम द्वारा पास होता रहा।

               *नई फॉगिंग मशीन खरीदने की तैयारी में नगर निगम*
सूत्रों से मिली जानकारी में पता चला कि अभी लॉक डाउन 5 में भी नगर निगम और फॉगिंग मशीन खरीदने की तैयारी कर रहा जोकि पेट्रोल से न चलकर बैटरी से चलेगी जबकि 23 फॉगिंग मशीन अभी नगर निगम के पास नई रखी हुई है।
                   
                        *अभी तक नही हो सका पेमेंट* 
नगर निगम द्वारा जनता का हित देखते हुए 60 फॉगिंग मशोनो की जैम पोर्टल के माध्यम से ठेकेदार द्वारा खरीदा गया था जिससे वार्डो में मच्छड़ न हो सके और बुखार न फैल सके लेकिन नगर निगम ने जिस ठेकेदार द्वारा जैम पोर्टल से मशीन/ वाहन खरीदी थी उसका लॉक डाउन पांच में भी लगभग 45 लाख रूपयो का पेमेंट नही हो सका वही ठेकेदार द्वारा निरंतर अपने पेमेंट की मांग की जा रही है और इधर नगर निगम लगभग 1.88 लाख की लगभग 25 नई मशीने और खरीदने का मन बना रहा है।

              *मशीन/वाहन खरीद के लिए बनाई गई थी जांच समिति* 
नगर निगम द्वारा एक जांच समिति का गठन मशीन वाहन इत्यादि खरीदने के लिए नगर आयुक्त द्वारा 02 अप्रैल 2020 को किया गया था जिसमें अपर नगर आयुक्त शादाब असलम,मुख्य अभियंता एल एन सिंह,मुख्य नगर लेखा परीक्षक अशोक यादव,नगर स्वास्थ्य अधिकारी विनीत सिंह,लेखाधिकारी राजकिशोर,अवर अभियंता राम अवध यादव को नामित किया गया था अब जब ठेकेदार को पेमेंट करने की बात आ रही तो जिम्मेदार अधिकारी अपने आप को बचाते हुए कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।
btnimage