पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का सर्वदलीय बैठक में न जाने का तर्क झूठ का पुलिंदा है : मनीष शुक्ला

लखनऊ (20 जून, 2019)।
पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमों मायावती के "एक देश एक चुनाव" पर दिये गए बयान पर भारतीय जनता पार्टी ने तंज कसते हुए कहा कि जिनकी पार्टी के अन्दर ही लोकतंत्र नहीं है वहीं आज लोकतंत्र बचाने को दुहाई दे रही है। प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि सर्वदलीय बैठक में मायावती का न जाने का तर्क झूठ का पुलिंदा है।

प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने बसपा सुप्रीमों और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को याद दिलाते हुए कहा कि एक राजनैतिक दल के द्वारा EVM हैक करने के आरोप पर जब चुनाव आयोग ने सभी दलों के प्रतिनिधियों को बुलाया था तो आप या बसपा का कोई प्रतिनिधि उस बैठक में नहीं गया था। इसलिए ये कहना कि यदि EVM पर बैठक होती तो मैं जाती-यही वास्तविक ढकोसला है।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि एक ओर बसपा सुप्रीमों लोंकतत्र की दुहाई दे रही है वहीं दूसरी तरफ सर्वदलीय बैठक जैसी लोकतांत्रिक व्यवस्था में भाग नहीं ले रही है। आपके पास एक देश एक चुनाव से असहमति के ठोस तर्क थे तो आपको फोरम पर उनको ऑन रिकार्ड रखना चाहिए था।

प्रदेश प्रवक्ता ने बसपा सुप्रीमों मायावती के बयान "जनता का विश्वास काफी चिन्ताजनक स्तर तक घट गया है" पर सवाल करते हुए पूछा कि 17वीं लोकसभा में सर्वाधिक मतदान हुआ है क्या ज्यादा मतदान होना घटते विश्वास का प्रतीक है?

प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि दरसल बसपा समेत अन्य विपक्षी दल अपनी हार का वास्तविक कारण का विश्लेषण नही कर रहे है बल्कि सरकार द्वारा जनहित एवं देशहित के कदम उठाने पर सवाल खड़ा कर अपनी हार की भड़ास निकाल रही हैं।
btnimage