UPCM ने मैनपुरी में आयोजित चौपाल कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से सीधे संवाद किया

उत्तर प्रदेश (मैनपुरी)।
UPCM ने कहा कि ग्राम स्वराज अभियान का उद्देश्य अधिक से अधिक पात्र लोगों को शासन की योजनाओं का लाभ दिलाना है। इसके लिए जनता के द्वार पर आकर केन्द्र व प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के सम्बन्ध में जानकारी दी जा रही है। अधिक से अधिक लोग शासन की योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकें, इसके लिए आवश्यक है कि लाभान्वित लोग अन्य जरुरतमन्दों को योजनाओं की जानकारी दें। प्रशासन को विशेष कैम्प लगाकर जरुरतमन्दों को सरकारी योजनाओं से अवगत कराने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि सभी पात्रों तक प्रत्येक योजना का लाभ बिना किसी परेशानी के पहुंचे, इसके लिए मुकम्मल व्यवस्था की गयी है। बिचैलिया प्रथा समाप्त कर योजनाओं की धनराशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में भेजी जा रही है।

UPCM जनपद मैनपुरी के ग्राम ललूपुर में आयोजित चौपाल कार्यक्रम में फसल ऋण मोचन योजना, उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, सौभाग्य योजना सहित विभिन्न प्रकार की पेंशन योजनाओं के लाभार्थियों से सीधे संवाद किया।

उन्होंने चौपाल में फसली ऋण मोचन योजना के लाभार्थी करन सिंह चैहान, राधे लाल, उज्ज्वला योजना की लाभार्थी उर्मिला देवी, शांति देवी, प्रधानमंत्री आवास योजना की लाभार्थी संध्या देवी, सौभाग्य योजना की लाभार्थी सुमन, सावित्री देवी, वृद्धावस्था पेंशन की लाभार्थी अनार कली, निराश्रित पेंशन की लाभार्थी विमला देवी से सीधे संवाद किया। उन्होंने 01 सप्ताह में कैंप लगाकर लाभार्थियों की शिकायतों के निस्तारण के निर्देश दिये।

UPCM ने कहा कि किसी भी योजना का कोई भी पात्र लाभ पाने से वंचित न रहे। 31 मार्च 2016 से पूर्व के सभी लघु एवं सीमांत कृषकों के 01 लाख रुपये तक के फसली ऋण माफ होने हैं। यदि कोई पात्र इस योजना का लाभ पाने से वंचित रह गया है तो 15 जून, 2018 तक फाॅर्म जमा कराकर उसे योजना का लाभ दिलाया जाये। गांव में विशेष कैम्प आयोजित कर सभी पात्रों को स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय से लाभान्वित किया जाये। जिनके पास अन्त्योदय, पात्र गृहस्थी राशन कार्ड नहीं हैं उनके राशन कार्ड बनवाये जायेें। उन्होंने निर्देश दिए कि गांव की निर्मला देवी के कैंसर पीड़ित पति को तत्काल आरोग्य निधि से 01.50 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाये। इलाज हेतु अधिक धनराशि की आवश्यकता हो तो एस्टीमेट बनवाकर भेजा जाये, मुख्यमंत्री राहत कोष से इलाज पर व्यय होने वाली धनराशि की प्रतिपूर्ति होगी।

UPCM ने कहा कि राज्य सरकार गरीबों को इलाज में मदद करेगी। उन्होंने कहा कि निर्धन व्यक्तियों के इलाज हेतु ग्राम पंचायत निधि से 05 हजार रुपये की आर्थिक मदद दी जाये। प्रत्येक सोमवार को सी.एम.ओ. कार्यालय द्वारा कैम्प लगाकर दिव्यांगों के प्रमाण-पत्र जारी किये जायें। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने 01 वर्ष के अल्प कार्यकाल में विकास कार्यों को गति देने का कार्य किया है। लाभार्थीपरक योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम पायदान के व्यक्ति तक पहंुचे इसके लिए जिला प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों के माध्यम से कार्यवाही की जा रही है। ग्राम स्वराज अभियान के अन्तर्गत ग्रामों का चयन कर मूल-भूत सुविधाएं आम-जन तक पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि शासन की योजनाओं की जानकारी कर उसका लाभ प्राप्त करें।

UPCM ने चौपाल में उपस्थित ग्रामीणों से कहा कि जो पात्र व्यक्ति शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ पाने से वंचित हैं उन्हें तत्काल लाभान्वित कराया जायेगा। केन्द्र व प्रदेश सरकार समाज के निचले पायदान तक के व्यक्ति का जीवन स्तर ऊपर उठाकर विकास की मुख्य धारा में लाने की दिशा में तेजी से कार्य कर रही हैं। उन्होंने ग्रामीणों का आह्वान किया कि वे गांव को साफ-स्वच्छ रखने में अपना योगदान दें। वृक्ष अवश्य लगायें और उनकी देख-भाल करें। पानी की बर्बादी न करें। गांव के तालाब को मनरेगा से खुदायी कराकर जल सरंक्षण के लिए तैयार करें। हर व्यक्ति जल संरक्षण, वन संरक्षण के लिए कार्य करे, स्वच्छता अभियान से जुड़कर आस-पास के माहौल को साफ-सुथरा बनाने में सहयोग दे।

UPCM ने कहा कि मार्च 2017 से पूर्व प्रदेश में विकास अवरूद्ध था। जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ धीमी गति से पात्रों तक पंहुचता था। वर्तमान राज्य सरकार के 01 वर्ष के कार्यकाल में विकास ने गति पकड़ी है। सत्ता संभालने के तत्काल बाद जनपद के 38 हजार किसानों का 273 करोड़ 26 लाख रुपये का कर्ज माफ किया गया है। 02 अक्टूबर 2014 से 31 मार्च 2017 तक जनपद में मात्र 10 हजार 199 शौचालय निर्मित हुए थे। 01 अपै्रल 2017 से मई 2018 तक जनपद में 86 हजार 91 शौचालय बनवाए गये हैं। शहरी क्षेत्र में भी 09 हजार 885 शौचालयों का निर्माण कराया गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में मार्च 2017 तक 507 आवास ही बने थे। विगत एक वर्ष के भीतर प्रदेश सरकार ने जनपद में 06 हजार 903 आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण कराया है। साथ ही, प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के भी 577 लाभार्थियों को लाभान्वित किया गया है।

UPCM ने कहा कि सामूहिक विवाह योजना के तहत 252 गरीब कन्याओं की शादी करायी गयी है। सौभाग्य योजना में 14 हजार 658 पात्रों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन दिये गये हैं। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में 01 वर्ष में 39 हजार 135 गरीब महिलाओं को निःशुल्क गैस कनेक्शन उपलब्ध कराये गये हैं। प्रधानमंत्री जनधन योजना में 03 लाख 80 हजार 289 खाते खुले, 51 हजार 548 व्यक्तियों को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना में लाभान्वित किया गया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में 758 समूहों का गठन किया गया। किसानों को उनकी उपज का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए गेहूं क्रय केन्द्र के माध्यम से गेहंू की खरीद की गयी। गत वर्ष जनपद में 42 हजार 872 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद हुयी थी जबकि इस वर्ष 60 हजार 237 मीट्रिक टन की खरीद हो चुकी है। सभी किसानों को तत्काल आर.टी.जी.एस के माध्यम भुगतान भी किया जा चुका है।

इस अवसर पर जनपद के प्रभारी मंत्री गिरीश चन्द्र यादव, पंचायतीराज राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भूपेन्द्र सिंह चौधरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं बड़ी संख्या में जनसमुदाय उपस्थित रहा।

btnimage