UPCM सरकार के विधायकों पर लगातार लग रहे रेप के आरोप…..सच्चाई क्या?

उत्तर प्रदेश।
UPCM सरकार में यूं तो उत्तर प्रदेश की राजनीति में हमेशा से उठापटक रही है, लेकिन यह वर्ष कुछ ज्यादा ही उठापटक वाला रहा। खासकर भाजपा नेताओं के लिए……अगर बात भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की की जाए, तो इस साल भाजपा के कई नेताओं के ऊपर कई गंभीर आरोप लगे। बात चाहे उन्नाव के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे रेप के गंभीर आरोप की हो। क्योंकि अभी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे रेप केस की जांच चल ही रही थी, वहीं दूसरी ओर बदायूं के बिसौली विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक कुशाग्र सागर के ऊपर भी नौकरानी की बेटी के साथ रेप का आरोप लगने से राजनीतिक गलियारों में हलचल काफी तेज हो गई।

क्या है कुशाग्र सागर के ऊपर आरोप-
आपको बता देना चाहते हैं कि बदायूं के बिसौली विधानसभा क्षेत्र से विधायक कुशाग्र सागर के ऊपर उन्हीं के घर में काम करने वाली नौकरानी की बेटी ने रेप के गंभीर आरोप लगाए हैं। शिकायतकर्ता पीड़िता का कहना है कि कुशाग्र सागर ने शादी का झांसा देकर उसके साथ कई बार रेप किया। यह आरोप ऐसे समय पर लगे हैं जहां पहले से ही रेप के मामले में कुलदीप सिंह सेंगर के वजह से आलोचना झेल रही सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी पर विपक्ष उन्नाव रेप कांड को लेकर हमलावर रहा है, वहीँ विपक्षियों को एक बार फिर से सत्ताधारी भाजपा के ऊपर हमला करने का मौका मिल गया है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी 2014 में कुशाग्र सागर के ऊपर इसी महिला ने रेप का आरोप लगाया था लेकिन उस समय कुशाग्र विधायक नहीं हुए थे। कुशाग्र सागर के कथनानुसार उस समय महिला ने अपनी गलती को मान कर कुशाग्र को एक एफिडेविट भी दिया था। जिसमें महिला ने साफ तौर पर यह लिखकर दिया था कि उसने कुशाग्र सागर के ऊपर झूठे आरोप लगाए हैं और भविष्य में ऐसी गलती नहीं होगी। लेकिन एक बार फिर से महिला ने उनके ऊपर रेप का आरोप लगा दिया है ….और यह आरोप ऐसे समय में लगे हैं जब विधायक कुशाग्र सागर की शादी होने वाली थी इसलिए आशंका जताई जा रही है। कहीं न कहीं यह मामला प्रेम प्रसंग का भी हो सकता है।

क्या कहते हैं भाजपा प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी
भाजपा विधायक पर लगे लेकिन संगीन आरोप जो हमने भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी से बात की तो उनका साफ तौर पर कहना था कि सरकार इस तरीके के गंभीर अपराधों को लेकर बहुत सजग है और पुलिस महकमा पूरी ईमानदारी से निष्पक्ष होकर अपना काम करेगा। अगर जांच में आरोपों में सत्यता पाई जाती है तो दोषी के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। लेकिन साथ ही साथ उन्होंने इशारों-इशारों में इस मामले में राजनीतिक षड्यंत्र के होने के संकेत भी दे दिए।

 

क्या कहता है विपक्ष
इस मामले पर जब हमने ने विपक्ष की प्रतिक्रिया ली तो कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता दुआजेंद्र त्रिपाठी का कहना था कि जनता सब देख रही है और उसका मूल्यांकन भी करेगी। अगर बीजेपी में इसी तरह के चाल चरित्र के लोग हैं और BJP चाल चरित्र की बात करती थी तो ऐसा चाल-चरित्र उन्हीं को मुबारक हो। साथ ही साथ उन्होंने तंज कसते हुए यह भी कहा कि जहां एक तरफ भाजपा ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का नारा देती है मगर इस तरीके के लोग भाजपा में है तो बेटियां कैसे बचेंगी।

 

हालांकि इस मामले मे भाजपा विधायक कुशाग्र सागर के ऊपर अभी ना ही FIR लिखी गई है और ना ही गिरफ्तारी हुई है। लेकिन पुलिस प्रशासन ने संज्ञान लेते हुए जांच शुरू कर दी है। इन आरोपों में कितनी सत्यता है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा?

btnimage