UPCM योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर मण्डल की कानून व्यवस्था की समीक्षा की

सहारनपुर (29 जून, 2019)।
UPCM योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में अपराध का स्तर न्यूनतम करने की दिशा में जिला स्तर पर मजबूत टीमों के गठन करने का निर्देश देते हुए कहा कि अपराधियों में वर्दी का भय होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनता के मन में वर्दी का भरोसा कायम करना होगा। उन्होंने यह निर्देश आज सहारनपुर मण्डल की कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, और शामली के पुलिस अधिकारियों को दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी अपने दायित्वों का निर्वहन मेहनत और लगन से करें। उन्होंने सचेत किया कि कार्य में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को दण्डित किया जाएगा। भ्रष्टाचार और अपराध के सम्बन्ध में प्रदेश सरकार की जीरो टाॅलरेन्स की नीति है। राज्य सरकार इनसे सख्ती से निपटेगी। इस पर न तो कोई समझौता होगा न ही किसी को बख्शा जाएगा। उन्होंने जनपदों के पुलिस कप्तानों को प्रत्येक दिन सुबह 9 बजे से 11 बजे तक अपने कार्यालय में उपस्थित रहकर जनता की समस्याएं सुनकर उनका निवारण करने के भी निर्देश दिये। अधिकारियों को अपने क्षेत्र का औचक निरीक्षण कर दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए तभी जनता का भरोसा जीता जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने सहारनपुर मण्डल के पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि संवेदनशील इलाकों को चिन्हित कर वहां पुलिस गश्त बढ़ाई जाए। नियमित तौर पर फुट पेट्रोलिंग की जाए। इसी प्रकार थाना स्तर पर उपद्रवी तत्वों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कार्यवाही कर उन्हें जल्द से जल्द सजा दिलवाएं। महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को रोकने के लिए उन्होंने जिला प्रशासन को जल्द से जल्द एन्टी-रोमियो स्क्वाड गठित करने का निर्देश देते हुए कहा, कि 01 जुलाई को कॉलेज, स्कूल खुलने से पहले एन्टी-रोमियो स्क्वाड का गठन हो जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने महिला पुलिस कर्मियों की सहायता से कॉलेज और स्कूलों में छात्राओं को जागरूक करने के भी निर्देश दिये। हैंड बिल के जरिए ऐसे अपराधों के बारे में जागरूकता लाकर भी महिलाओं के खिलाफ अपराधों में कमी लायी जा सकती है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार महिलाओं, बालिकाओं के खिलाफ अपराधों से सख्ती से निपटेगी। इसमें किसी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

भू-माफिया और अवैध खनन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, कि ऐसे तत्वों की सम्पत्तियां भी जब्त करने की दिशा में काम होना चाहिए। सजा के साथ-साथ ऐसे लोगों की सम्पत्तियां भी जब्त होनी चाहिए तभी उनके हौसले टूटेंगे। अवैध बूचड़खानों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करने का निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि सभी अवैध बूचड़खानों को तत्काल प्रभाव से बंद करवाया जाय।

अवैध शराब और मादक पदार्थों की बिक्री को रोकने के लिए प्रभावी कार्रवाई के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मादक पदार्थों का खतरा हो सकता है। इसलिए प्रशासन को निरन्तर सावधान और सजग रहकर इस खतरे के खिलाफ लड़ाई लड़नी है और युवाओं को इसकी चपेट में आने से बचाना है।

इस मौके पर भारत सरकार के पशुपालन राज्य मंत्री संजीव कुमार बालियान, राज्य के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, गन्ना विकास एवं चीनी मिलें राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सुरेश राणा, आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धरम सिंह सैनी, पंचायतीराज राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भूपेन्द्र सिंह चौधरी, देवबन्द से विधायक देवेन्द्र निम, विधायक कुंवर बृजेश सिंह, सदस्य विधान परिषद विरेन्द्र सिंह आदि के अलावा  मण्डलायुक्त संजय कुमार, प्रशान्त कुमार अपर पुलिस महा निदेशक, तीनों जिलाधिकारी मौजूद रहे।
btnimage